बेंगलुरु : कर्नाटक में शपथ-ग्रहण के बाद मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा ने गुरुवार को पहली कैबिनेट मीटिंग में किसानों का कर्ज माफ करने का फैसला लिया। उन्‍होंने किसानों का एक लाख रुपये तक का कर्ज माफ करने की घोषणा की है। इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि विश्‍वास मत हासिल करने के लिए वह 15 दिनों का इंतजार नहीं करेंगे। कांग्रेस अगर बीजेपी पर ‘अनैतिक राजनीति’ का आरोप लगाती है तो वह पूरी तरह गलत है।

इस बीच, खबर ये आ रही है कि बीजेपी ‘एंग्‍लो-इंडियन’ के लिए आरक्षित सीट को भरने के लिए राज्‍यपाल से निवेदन कर सकती है। लेकिन टीएमसी सांसद डेरेक ओ’ब्रायन ने कहा कि अल्‍पसंख्‍यक समाज के हितों की रक्षा करना अपनी जगह है, लेकिन किसी खास राजनीतिक दल के लिए अगर एंग्‍लो-इंडियन समाज का इस्‍तेमाल किया जाता है तो ये लोकतंत्र के लिए सही नहीं है। 

डीएम के कार्यकारी अध्‍यक्ष एमके स्‍टालिन ने कहा कि किसी राजनीतिक दल को सरकार बनाने के लिए बुलाना राज्‍यपाल का विशेषाधिकार है, लेकिन जिस तरह से कर्नाटक में सरकार का गठन हुआ है, वह जल्‍दबाजी का फैसला है।

येदियुरप्‍पा ने शपथ-ग्रहण के कुछ ही समय बाद आयोज‍ित कैबिनेट की बैठक में किसानों की कर्ज माफी का फैसला लिया। किसानों की कर्ज माफी का मुद्दा कर्नाटक चुनाव में काफी अहम था। यह बीजेपी के चुनाव घोषणा-पत्र में भी शामिल था। खुद येदियुरप्‍पा ने कहा था कि सत्‍ता में आने पर वह जल्‍द से जल्‍द इस बारे में घोषणा करेंगे।

कर्नाटक की राजनीति में किसानों की अहम‍ियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि येदियुरप्‍पा में मुख्‍यमंत्री पद की शपथ भी ईश्‍वर और किसानों के नाम पर ही ली। येदियुरप्‍पा को कर्नाटक के राज्‍यपाल वजूभाई वाला ने गुरुवार को राजभवन में आयोजित एक समारोह में मुख्‍यमंत्री पद की शपथ दिलाई, जहां कई केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के दिग्‍गज नेता मौजूद रहे।

शपथ-ग्रहण के बाद उन्‍होंने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस की और किसानों की कर्ज माफी का ऐलान किया। उन्‍होंने इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी के अध्‍यक्ष अमित शाह को धन्‍यवाद दिया।

प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के दौरान उन्‍होंने यह भी कहा कि हालांकि बहुमत साबित करने के लिए उन्‍हें 15 दिनों का समय मिला है, पर वह इससे पहले ही बहुमत साबित कर देंगे और इसके बाद कैबिनेट का विस्‍तार कार्यक्रम धूम-धाम से कराया जाएगा।

उन्‍होंने कहा, ‘बीजेपी राष्‍ट्रीय पार्टी है। आने वाले दिनों में कैबिनेट का विस्‍तार किया जाएगा। इसके लिए बेंगलुरु में बड़ा आयोजन होगा, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ-साथ बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह और अन्‍य राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों को भी आमंत्रित किया जाएगा।’