नई दिल्ली: सियासत की लड़ाई सियासी तरीके से लड़ी जाती है। लेकिन कर्नाटक में बीजेपी की सरकार बनने के बाद कांग्रेस की बौखलाहट साफ दिखाई दे रही है।  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि आज जो कुछ देश में हो रहा है, वो पाकिस्तान में होता है। उन्होंने अफ्रीकी देशों का जिक्र करते हुए आप देखते होंगे के कुछ जनरल सत्ता में आते हैं और वो सभी संवैधानिक संस्थाओं की गरिमा को भंग कर देते हैं। 

भारत में पिछले 70 साल में पहली बार ये हो रहा है कि संवैधानिक संस्थाओं की गरिमा का हनन किया गया है। पहली बार सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने कहा कि उन्हें काम नहीं करने दिया जा रहा है। प्रेस की आजादी पर प्रहार किया जा रहा है। किसी को बोलने नहीं दिया जा रहा है। समाज का हर तबका डरा हुआ महसूस कर रहा है।


राहुल गांधी ने कहा कि कर्नाटक में नियमों को ताक पर बीजेपी ने सरकार बनाने की कोशिश की है। सरकार को बचाए रखने के लिए विधायकों की खरीदफरोख्त की जा रही है। कर्नाटक में जनमत का सम्मान नहीं किया जा रहा है। संख्या बल में जेडीएस और कांग्रेस आगे है लेकिन सरकार बनाने का मौका नहीं मिला। इससे एक बात तो साफ है कि कहीं न कहीं और किसी न किसी रूप में सरकारी संस्थाओं को कमजोर किया जा रहा है। 

राहुल के बयान पर बीजेपी ने कहा कि अब इसमें संदेह नहीं है कि कांग्रेस अध्यक्ष को किससे प्यार है। जिस अंदाज और जिस तरह से वो बयान दे रहे हैं उससे साफ है कि कांग्रेस पूरी तरह हताश है। बीजेपी नेता और केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि आप राहुल गांधी से इस तरह के बयान की उम्मीद कर सकते हैं। भारतीय न्यायपालिका का पाकिस्तान की व्यवस्था से तुलना करना उनकी मानसिक स्थिति को बयां करने के लिए पर्याप्त है।

जेडीएस नेता कुमारस्वामी ने कहा कि कर्नाटक में जो कुछ हुआ है वो लोकतंत्र की हत्या है। दो दल जिनके पास सरकार बनाने के लिए पर्याप्त आंकड़े हैं उन्हें मौका नहीं दिया गया। जिन नियमों की दुहाई देकर गवर्नर ने बीजेपी को मौका दिया है, उन्हीं नियमों की गोवा और मणिपुर में अनदेखी की गई।