कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को जल्द ही पूरी तरह से पार्टी की कमान मिला जाएगी। आज पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के जोश के बीच उन्होंने अध्यक्ष पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है।

राहुल साल 1998 में पार्टी की अक्ष्यक्ष बनीं मां सोनिया गांधी की जगह लेंगे। जाहिर है कि जिस तरह से पीएम मोदी की अगुवाई में बीजेपी लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही है और वैसे इलाकों में भी उसका विस्तार हो रहा है जहां पहले उसका कोई वजूद नहीं था। अब ठीक वैसे ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं की भी राहुल से  उम्मीदें बंध गई हैं।

राहुल अक्सर बीजेपी और पीएम मोदी को घेरने की हर संभव कोशिश करते हैं। वह इन दिनों ट्विटर के जरिए भी पीएम मोदी पर निशाना साध रहे हैं। हम आपको बताने जा रहे हैं कि राहुल कब-कब पीएम को आड़ें हाथों ले चुके हैं:

नोटबंदी का एक साल और राहुल का वार

कांग्रेस का पदभार संभालने वाले राहुल ने नोटबंदी के एक साल (8 नवंबर) पूरे होने पर मोदी सरकार की कड़ी आलोचना की थी। उन्होंने नोटबंदी के बाद लोगों को हुई परेशानियों की ओर इशारा करते हुए ट्विटर पर बुजुर्ग की एक फोटो शेयर की, जो बैंक की लाइन में खड़े होकर रो रहा है। उन्होंने कैप्शन में लिखा कि ‘एक आंसू भी हुकूमत के लिए खतरा है, तुमने देखा नहीं आंखों का समंदर होना।’ 

GST को लेकर साधा निशाना

जीएसटी लागू होने के बाद राहुल ने पीएम मोदी पर वार करते हुए कहा था कि केंद्र द्वारा जल्दबाजी में जीएसटी लागू करने की वजह से आम लोगों को अपनी नौकरी गंवानी पड़ी। साथ ही आरोप लगाया था कि एनडीए की आर्थिक नीतियों की वजह से बेरोजगारी बढ़ गई है।

भ्रष्टाचार के मुद्दे पर घेरा

छत्तीसगढ़ के बस्तर दौरे पर राहुल गांधी ने पीएम मोदी को भ्रष्टाचार के मुद्दे पर घेरा था। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा था कि पीएम भ्रष्टाचार पर बस बातें ही करते हैं। छत्तीसगढ़ के सीएम रमन सिंह का भ्रष्टाचार उन्हें दिखाई नहीं देता है।

गुजरात में महिलाओं की सुरक्षा

राहुल ने पीएम मोदी पर हमलावर रुख जारी रखते हुए महिलाओं की सुरक्षा और उनके अधिकारों पर सवाल पूछा। साथ ही आंगनबाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं की स्थिति पर भी सरकार को कटघरे में खड़ा किया। इस सवाल के पहले राहुल शिक्षा, महंगी बिजली, घर देने के वादे और वित्तीय कुप्रबंधन को लेकर बीजेपी पर निशाना साध चुके हैं।

बेरोजगारी पर सवाल

गुजरात के युवाओं की बेरोजगारी और सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू नहीं करने को लेकर राहुल ने प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा था। राहुल ने गुजरात विधानसभा चुनाव होने तक 22 सवाल पूछे जाने के अपने वादे के तहत कहा, ’22 सालों का हिसाब, गुजरात मांगे जवाब। गुजरात के हालात पर प्रधानमंत्री से छठा सवाल।’ बता दें कि राहुल ने नौ दिसंबर को चुनाव होने तक हर रोज मोदी से ट्विटर पर एक सवाल पूछे जाने की रणनीति के तहत यह सवाल किया।