नई दिल्ली। बीजेपी नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री उमा भारती भी अब पद्मावती को लेकर चल रहे विवाद में कूद गई हैं। उमा भारती ने ट्विटर पर एक खुला खत शेयर किया है। इस खत में उमा भारती ने लिखा है कि उलाउद्दीन खिलजी एक व्याभिचारी हमलावर था। साथ ही उन्होंने लिखा है कि उलाउद्दीन खिलजी पद्मावती पर बुरी नजर रखता था। ज्ञातव्य है कि संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती की रिलीज को लेकर विवाद चल रहा है। राजपूत समाज इस फिल्म की रिलीज का विरोध कर रहा है। अब उमा भारती ने ट्विटर पर लिखा है कि पद्मावती को राजपूत समाज से न जोडकर भारतीय नारी की अस्मिता से जोडा जाए। 

उन्होंने लिखा कि रिलीज से पहले इतिहासकार, फिल्मकार और आपत्ति करने वाले समुदाय के प्रतिनिधि और सेंसर बोर्ड मिलकर कमिटी बनाएं और इस पर फैसला करें। उमा भारती ने लिखा कि कुछ बातें राजनीति से परे होती हैं। उमा भारती ने लिखा कि मैं भी एक भारतीय महिला हूं और हर चीज को वोट की नजर से नहीं देख सकते। उमा ने लिखा कि वह हमेशा स्त्रियों के सम्मान की चिंता जरूर करेंगी।