कश्मीर के श्रीनगर में एक अस्पताल पर आतंकी हमला हुआ है. हमला श्री महाराज हरि सिंह अस्पताल में हुआ है, जिसमें एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई है. जबकि दूसरे की हालत गंभीर बताई जा रही है. मिली जानकारी के अनुसार, अस्पताल में आतंकियों का चेकअप हो रहा था और पाकिस्तानी आतंकी अबू हंजला को मेडिकल जांच के लिए पुलिस अस्पताल लाई थी. अबू हंजला लश्कर आतंकी अबू दुजाना का करीबी बताया जा रहा है. जिसे 2014 में कुलगाम के पास से गिरफ्तार किया गया था. 

इस दौरान अपने साथी आतंकी को पुलिस की कैद से छुड़ाने को लेकर ये हमला किया गया. कुछ हथियारबंद आतंकियों ने अस्पताल में घुसकर गोलियां बरसानी शुरू कर दी. इस गोलीबारी में एक पुलिस वाले की मौत हो गई, वहीं एक अन्य गंभीर रूप से घायल है. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, अस्पताल में फायरिंग के दौरान आतंकी अबू हंजला पुलिस की गिरफ्त से फरार हो गया और गोलियां बरसाने वाले आतंकी भी मौके पर से भाग निकले.

वहीं एसएसपी श्रीनगर इम्तियाज इस्माइल ने कहा है कि सेंट्रल जेल से छह कैदियों को लाया गया था. जिनमें से एक ने पुलिस की रायफल छीनकर पुलिसवालों पर ही हमला कर दिया. एक पुलिसकर्मी की हालत नाजुक बनी हुई है, जबकि एक अन्य पुलिसकर्मी भी घायल है. कैदी का नाम नवीद है.

 पुलिस अधिकारियों ने बताया कि लश्कर के पाकिस्तानी आतंकवादी नवीद जट्ट को वर्ष 2014 में दक्षिण कश्मीर के कुलगाम से गिरफ्तार किया गया था. वह हमलावरों के साथ बच कर भागने में सफल रहा. पुलिस ने बताया कि आतंकवादियों ने शहर के काका सराय इलाके में अस्पताल के बाहर जट्ट उर्फ अबू हंजला को ले जा रहे पुलिस दल पर गोलीबारी की.एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि एक पुलिसकर्मी शहीद हो गया जबकि एक अन्य अस्पताल में अपने जीवन के लिए संघर्ष कर रहा है. उन्होंने कहा कि एक पुलिसकर्मी की कार्बाइन राइफल भी लापता बताई जा रही है. अधिकारी ने बताया कि इलाके को घेर लिया गया है और आतंकवादियों को पकड़ने के लिए तलाश शुरू कर दी गई है.

आतंकियों के हमले में शहीद जम्मू-कश्मीर पुलिस के जवान मुश्ताक अहमद को राजकीय सम्मान के साथ श्रद्धांजलि दी गई है. 

मोहम्मद नवीद जट्ट उर्फ अबू हंजला पाकिस्तान के मुल्तान का रहने वाला है. वह रिटायर्ड आर्मी ड्राइवर का बेटा है. बताया जा रहा है कि वह अक्टूबर 2012 में छह अन्य आतंकियों के साथ उत्तरी कश्मीर के केरन सेक्टर से भारत में दाखिल हुआ था.

हंजला ने जमात-उद-दावा द्वारा संचालित मदरसों में ट्रेनिंग हासिल की. हंजला को 62 आरआर और कुलगाम पुलिस ने 2015 में बिहीबाग से गिरफ्तार किया था. वह पुलिस और सिक्योरिटी एजेंसियों पर हुए कई हमलों में शामिल रह चुका है.