उत्तर प्रदेश आम का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य है। प्रदेश में प्रतिवर्ष करीब 40 से 45 लाख मीट्रिक टन आम का उत्पादन होता है। वहीं उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के आम विदेशों में ज्यादा पसंद किये जाते हैं। उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग के निदेशक डा. राघवेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि अमेरिका व जापान के लोग मीठे तथा अरब देशों के लोग खट्टे आम पसंद करते हैं। इसलिए अमेरिका में मीठे व अरब देशों में खट्टे आम की मांग बढ़ गयी है। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर विभिन्न प्रजातियों के आम की पैदावार होती है। लखनऊ के मलिहाबाद की दशहरी, चौसा, सफेदा आदि आम विदेशों तक में विख्यात हैं। इनका बड़े पैमाने पर निर्यात भी किया जाता है। विदेशों में दशहरी, चौसा, लंगड़ा और सफेदा आमों की मांग सबसे ज्यादा रहती है। डा. सिंह ने बताया कि कई प्रदेशों के व्यापारियों की मांग है कि उन्हें आम की कलर वैरायटी चाहिए।

उत्तर प्रदेश का आम अमेरिका, चीन, मलेशिया, जापान, आस्ट्रेलिया, संयुक्त अरब अमीरात, इग्लैंड सहित अन्य देशों में निर्यात किया जाता है। इन देशों में आमों का निर्यात किए जाने से सरकार को बहुत बड़ी धनराशि प्राप्त होती है। इस बार भी करीब दो दर्जन देशों में आम निर्यात किया जायेगा। उद्यान विभाग के निदेशक ने बताया कि हर साल विदेशों में उत्तर प्रदेश के आम की मांग बढ़ रही है।

प्रदेश से मुख्यतयः दशहरी, चौसा व लगड़ा आम का निर्यात विभिन्न देशों में किया जाता है। विदेशों में मुख्य रूप से लखनऊ व सहारनपुर से आम निर्यात होता है। उन्होंने बताया कि निर्यात करने से पहले आम को प्रोसेस किया जाता है और विदेशी बाजार के मुताबिक मानकों पर भी खरा उतारने के लिए लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। इस बार भी कुवैत, दुबई, सउदी अरब, न्यूजीलैण्ड, जापान, साउथ कोरिया सहित अन्य कई देशों में आम का निर्यात किया जायेगा।

उद्यान विभाग के निदेशक ने बताया कि आम उत्तर प्रदेश की मुख्य बागवानी फसल है। प्रदेश में आम की सैकड़ों किस्में जैव विविधता के रूप में संरक्षित हैं। जिनका प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में उत्पादन होता है। इनमें से दशहरी, लंगड़ा, चौसा,सफेदा, गौरजीत, रटौल, आम्रपाली और बाम्बेग्रीन आम की व्यासायिक प्रजातियां हैं।

लखनऊ,बाराबंकी,उन्नाव,सीतापुर,हरदोई,प्रतापगढ़,सहारनपुर,फैजाबाद,मेरठ,बागपत,वाराणसी,बुलन्दशहर,अमरोहा आदि जनपद आम उत्पादन एवं गुणवत्ता की दृष्टि से महत्वपूर्ण है।